Monday, November 21, 2016

सुन्दरता की परिभाषा

सुन्दरता की परिभाषा 




“वास्तविक सुन्दरता क्या होती है?” कल कुछ ऐसा हुआ कि मन  इस प्रश्न पर विचार करने पर मजबूर हो गया है| कल हैदराबाद से वापस आते हुए एयर पोर्ट पर बैठ कर फ्लाईट का इंतज़ार कर रहे थे, फ्लाईट डिले थी और एयर पोर्ट रेलवे स्टेशन की तरह खचा-खच भरा था| हमारे पड़ोस में ही एक दम्पति बैठे थे, उम्र कुछ ५५-६० के करीब रही होगी| दोनों पति-पत्नी आराम से हिंदी में जोर-जोर से बात कर रहे थे| उन्हें हमारे परिवार की बातचीत से लगा होगा कि हम हिंदी नहीं समझते होंगे| इसलिए शायद वो इतनी जोर से बात कर रहे थे| तो उनकी बात-चीत कुछ इस प्रकार थी:
“लल्ला बाबू की जे कुछ समझ में न आई| शादी कराने की इत्ती भी का जल्दी मची थी कि ऐसी लड़की से अपने छोरा को ब्याह दये|”
“हां लड़की के नाक नक्श ठीक नहीं लगे| बस गोरी होने से ही क्या होता है|”
“अपना परथम तो देखने में कित्ता नीका लगे है, रंग बस थोडा दबे है, पर लड़कों का रंग थोड़ी देखा जाबे है| इंजिनियर है और का चाही|”
“हाँ लड़की भी वैसे सुना है इंजीयरिंग के बाद MBA करी है, नौकरी करती है| पर शकल भी कोई चीज़ होती है| न भई, लड़की सुन्दर नहीं देख पाए लल्ला बाबू|”
“जेई तो हम भी कह रहीं हैं, कोई जोड़ नहीं बैठा दोनों का| चाहे खर्चे कित्ता भी किये रहे हों समधियाने वाले पर लड़की का रूप भी तो देखे चाही|”
“चलो हमें क्या करना है| वो जाने और उनका काम जाने| हमें तो बस समझ न आई लल्ला बाबू की|”
“और क्या हमें क्या लेना देना| चलो छोड़ो, कौन सा हमारी बहु है|”
ये बात-चीत हमने संक्षेप में लिखी है| करीब आधे घंटे वो लोग इसी विषय पर बतियाते रहे और हम उनकी बातें सुनकर मन ही मन कुढ़ते रहे| लड़की लडके से ज्यादा पढ़ी-लिखी है, नौकरी करती है, उसके मां-बाप ने खूब पैसा भी खर्च किया और तो और गोरी भी है, पर सुन्दर नहीं है| क्या है इसका मतलब?
#कैसेकैसेलोग #KaiseKaiseLog


1 comment:

राकेश कौशिक said...

https://hradaypushp.blogspot.in/2010/05/ganja.html